Makoy (Solalum Nigrum)- Treasures of Nature (Prakriti Ka Khazana) – मकोय

In chronic skin problems, the juice of Makoy can be used in the proportion of 180-220 ml. Other skin diseases like psoriasis, eczema, acne etc. can also be curbed by applying it on affected area. Use the paste of black night shade on corrosive ulcers, herpes, severe burns, rheumatic joints, suppurating syphilitic.

Makoy (मकोय) का प्रयोग निम्नलिखित बीमारियों, स्थितियों और लक्षणों के उपचार, नियंत्रण, रोकथाम और सुधार के लिए किया जाता है:

  • यकृत संबंधी विषाक्तता
  • सूजन

मकोय का पौधा इस पृथ्वी पर यकृत के रोगों व हृदय के रोगों की सबसे अच्छी औषधि कही जा सकती है । इस मकोय की पत्तियाँ पीलिया के रोग में आयुर्वेद के अनुसार अगर काड़ा बनाकर ले ली जाऐं तो पीलिया विल्कुल ही नष्ट हो जाता है,

मकोय के गुण व प्रभाव-

मकोय या काकमाची त्रिदोषनाशक अर्थात वात,पित्त व कफ तीनो दोषों का शमन करने वाला है।यह तिक्त अर्थात कड़ुवा स्वाद रखने वाली तथा इसकी प्रकृति गर्म,स्निग्ध,स्वर शोधक,रसायन,वीर्य जनक,कोढ़,बबासीर,ज्वर,प्रमेह,हिचकी,वमन को दूर करने वाला तथा नेत्रों को हितकर औषधि है।यह यकृत व हृदय केMAKOY GREEN रोगो को हरने वाली औषधि है।यकृत की क्रिया विधि जब विगड़ जाती है तो शरीर में अनेक उपद्रव यथा सूजन,पतले दस्त,व पीलिया जैसे रोगो के अलाबा कई बार बवासीर जैसे रोग होने लगते हैं।इन रोगों में मकोय का सेवन बहुत ही लाभ प्रद रहता है।यह औषधि यकृत की क्रियाविधि को धीरे धीरे सुद्रढ़ करके रोग का विनाश कर देती है।इस औषधि के प्रयोग से यकृत संवंधी रोग धीमें धीमें समाप्त हो जाते हैं।इस औषधि के पत्तों का रस आँतों में पहुँचकर वहाँ इकठ्ठे विषों का  विनाश कर देता है तथा पेशाव द्वारा शरीर से बाहर कर  दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *